500 Paryayvachi Shabd in Hindi

500 Paryayvachi Shabd in Hindi पर्यायवाची शब्द

Paryayvachi Shabd (पर्यायवाची शब्द) किसे कहते हैं?

Paryayvachi Shabd in Hindi

हिंदी व्याकरण में हम संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण ,अलंकार, अवयव, निबंध लेखन, शब्द परिचय, मुहावरे पर्यायवाची आदि के बारे में पढ़ते हैं, यह सभी हिंदी व्याकरण की नींव हैं। Paryayvachi Shabd (पर्यायवाची शब्द) हिंदी व्याकरण का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। तो चलिए पर्यायवाची शब्द के बारे में विस्तार से जानते हैं।

जो शब्द समान अर्थ के कारण किसी दूसरे शब्द की जगह ले लेते हैं उन्हें पर्यायवाची शब्द कहते हैं या समान अर्थ प्रदान करने वाले शब्द पर्यायवाची शब्द अथवा समानार्थक शब्द कहलाते हैं।

Ped ka Paryayvachi Shabd – वृक्ष, पादप, तरु, रुक्ष, द्रुम।

Prithvi ka Paryayvachi Shabd – जमीन, इला, वसुंधरा, क्षिति, धरती, धरित्री, अवनि, मेदिनी, वसुधा, धरा, धरणी, उर्वी, मही, भू।

Pakshi ka Paryayvachi Shabd – नभचर, गगनचर, विहग, दविज, शकुन्त, पखेरू, विहंग, परिन्दा, पतंग, चिडिया, खग, पंछी, अण्डज, खेचर।

Prem ka Paryayvachi Shabd – प्रीति, मुहब्बत, प्यार,मोह, माया, स्नेह, अनुराग, लगाव, चाह, दुलार।

Paryayvachi Shabd in Hindi
अंगूरद्राक्षा , दाख , इंगुर .
आमआम्र ,रसाल ,कामशर .
अंधकारतिमिर , अँधेरा , तम।
आग अग्नि,अनल,पावक ,दहन,ज्वलन,धूमकेतु,कृशानु ।
अच्छाउचित , शोभन , उपयुक्त , शुभ , सौम्य।
अजेयअजित , अपराजित , अपराजेय।
अतिथिपाहून, आंगतुक , अभ्यागत , मेहमान।
अनुचरनौकर , दास , सेवक , परिचारक।
अनुपमअनूठा , अनोखा , अपूर्व , निराला , अभूतपूर्व।
अन्यपृथक , और , भिन्न ,दूसरा।
अनाजशस्य , अन्न , धान्य।
अरण्यविपिन , वन , कानन , कान्तार , जंगल।
आभूषणविभूषण , भूषण , गहना , अलंकार।
आज्ञाहुक्म , आदेश , निर्देश।
अमृतसुधा,अमिय,पियूष,सोम,मधु,अमी।
असुरदैत्य,दानव,राक्षस,निशाचर,रजनीचर,दनुज।
अश्ववाजि,घोडा,घोटक,रविपुत्र ,हय,तुरंग .
आमरसाल,आम्र,सौरभ,मादक,अमृतफल,सहुकार ।
अंहकार गर्व,अभिमान,दर्प,मद,घमंड।
आँख लोचन, नयन, नेत्र, चक्षु, दृग, विलोचन, दृष्टि।
आकाश नभ,गगन,अम्बर,व्योम, अनन्त ,आसमान।
आनंद हर्ष,सुख,आमोद,मोद,प्रमोद,उल्लास।
आश्रम कुटी ,विहार,मठ,संघ,अखाडा।
आंसू नेत्रजल,नयनजल,चक्षुजल,अश्रु ।
इंतकाल देहांत , निधन , मृत्यु ,अन्तकाल।
इंदु चाँद , चंद्रमा, चंदा , राकेश।
इंसान मनुष्य , आदमी , मानव , मानुष।
इन्साफ न्याय , फैसला , अदल।
इजाजत स्वीकृति , मंजूरी , अनुमति।
इज्जत मान , प्रतिष्ठा , आदर , आबरू।
इनाम पुरस्कार , पारितोषिक , बख्शीश।
इल्जाम आरोप , लांछन ,दोषारोपण , अभियोग।
इंद्रदेवराज,सुरेन्द्र ,सुरपति ,अमरेश ,देवेन्द्र ,वासव ,सुरराज ,सुरेश .
इन्द्राणीइंद्रवधु,शची,पुलोमजा .
ईश्वर भगवान,परमेश्वर,जगदीश्वर ,विधाता।
इच्छा अभिलाषा,चाह,कामना,लालसा,मनोरथ,आकांक्षा ।
उन्नतिप्रगति , विकास , उत्कर्ष , अभ्युदय , उत्थान , वृद्धि।
उत्साहआवेग , जोश , उमंग।
उद्यानबाग़ , कुसुमाकर , वाटिका , उपवन , बगीचा।
ओंठओष्ठ,अधर,होठ।

Raja ka Paryayvachi Shabd – भूपति, महीपति, महीप, नरपति, नृपति, नृप, राव, भूप, भूपाल, सम्राट, नरेश, अवनीपति।

Surya ka Paryayvachi Shabd – सूरज,पतंग, मार्तण्ड आदित्य, प्रभाकर,तरणि, मरीची, भास्कर, दिवाकर, भानु, अर्क,दिनकर दिनेश, आदित्य, सविता, हंस, दिनकर, अंशुमाली, रवि।

Din ka Paryayvachi Shabd – अह्न, प्रमान, याम, वासर, दिवा, दिवस, वार।

Aankh ka Paryayvachi Shabd – दृष्टि, अक्षि, नयन, नेत्र, विलोचन, चक्षु, लोचन, अक्षि, नैन, अंबक, दृग।

Raat ka Paryayvachi Shabd – क्षया, रात, रजनी, क्षणदा, तमस्विनी, निशा, रैन, यामिनी, त्रियामा, शर्वरी, विभावरी।

Dharti ka Paryayvachi Shabd – अचला, पृथ्वी, वसुंधरा, ज़मीन, धरणी, वसुधा, भूमि, धरा, रत्नवती, भू, रत्नगर्भा, मही।

Kamal ka Paryayvachi Shabd – पद्म,पंकज,नीरज,सरोज,जलज,जलजात ।

More Details

Paryayvachi Shabd in Hindi
  • Kabir Das Ka Jivan Parichay | कबीर दास का जीवन परिचय – Click Here
  • B Pharma Fees | B Pharma Course Details in Hindi – Click Here
  • Sangya Kise Kahate Hain || Sangya ke Bhed संज्ञा की परिभाषा, प्रकार – Click Here
  • GK Questions in Hindi | Top 100 General Knowledge In Hindi – Click Here
कलसुन्दर , अगला दिन , मशीन , आराम , श्रेष्ठ।
कपड़ाचीर , ,पट , वसन , अम्बर , वस्त्र।
कनकगेंहू का आटा , स्वर्ण , धतूरा , सोना।
कृषकहलवाहा , किसान , कृषिजीवी , खेतिहर।
कानश्रवण , श्रुतिपट , कर्ण , श्र्वानेंद्रिय।
कोमलनाजुक , नरम , मृदु , सुकुमार , मुलायम।
कोषभंडार , ख़जाना , निधि।
कोयलवनप्रिय , पिक , कोकिला , काक्पाली , वसंतदूत।
किरणमरीचि , कर , अंशु , रश्मि , मयूख।
किनाराकगार , कूल , तट , तीर।
कृपाप्रसाद,करुणा,दया,अनुग्रह।
खलअधम , दुर्जन , दुष्ट , कुटिल , नीच।
गायगौ,धेनु,सुरभि,भद्रा ,रोहिणी।
गधागर्दभ ,खर,धूसर ,शीतलावाहन,चक्रीवान.
चरणपद,पग,पाँव, पैर ।
चातकसारन,मेघजीवन ,पपीहा ,स्वातीभक्त .
कंगनकड़ा, चूडा , वलय , कंकड़ .
करघनीकमरबंद ,किंकिणी, तगड़ी .
काजलकाज़र , कज्जल , अंजन ,सुरमा .
किताबपोथी ,ग्रन्थ ,पुस्तक ।
कपड़ाचीर,वसन, पट ,वस्त्र ,अम्बर ,परिधान ।
कामदेवमन्मथ ,मनोज,काम,मार ,कंदर्प,अनंग ,मनसिज ,रतिनाथ ,मीनकेतू.
कुबेरकिन्नरपति , किन्नरनरेश ,यक्षराज ,धनाधिप ,धनराज ,धनेश .
किरणज्योति, प्रभा,रश्मि, दीप्ति, मरीचि ।
किसान कृषक ,भूमिपुत्र ,हलधर ,खेतिहर ,अन्नदाता ।
कृष्णराधापति ,घनश्याम ,वासुदेव , माधव, मोहन ,केशव ,गोविन्द ,गिरधारी ।
कानकर्ण ,श्रुति ,श्रुतिपटल ।
कल्पवृक्षकल्पतरु ,देवतरु,कल्पलता ,देववृक्ष ,पारिजात .
गंगादेवनदी ,मंदाकनी,भगीरथी ,विश्नुपगा, देवपगा ,ध्रुवनंदा ।
गणेशगजानन , गौरीनंदन , गणपति , गणनायक , शंकरसुवन ,लम्बोदर ,महाकाय।
कोयलकोकिला , पिक , काकपाली, बसंतदूत ।
क्रोधरोष , कोप , अमर्ष , कोह , प्रतिघात ।
गजहाथी , हस्ती , मतंग , कूम्भा, मदकल ।
गुरुशिक्षक , बड़ा , भारी , वृहस्पति .
ग्रीष्मताप , घाम , निदाघ , गर्मी .
गृहघर , सदन , गेह ,भवन, धाम , निकेतन ,निवास ।
घटना हादसा , वारदात , वाकया.
घन मेघ , बादल, घटा , अम्बुद , अम्बुधर .
घपला गड़बड़ी ,गोलमाल , घोटाला .
घमंड दंभ , दर्प , गर्व , गरूर , अभिमान .
घर गृह , धाम , गेह,बसेरा .
घुड़सवार अश्वारोही , तुरंगी ,तुरंगारूढ़.
घुमक्कड़ भ्रमणशील ,पर्यटक , यायावर .
घूसघूस, रिश्वत ,उत्कोच .
घोड़ा तुरंग , हय , घोट ,घोटक,अश्व .
चंद्रमाचन्द्र , शशि , हिमकर , राकेश , रजनीश , निशानाथ , सोम , मयंक , सारंग , सुधाकर , कलानिधि ।
चतुर चालाक , कुशल , पटु , नागर , दक्ष ,प्रवीण .
छंटनी कटौती , छंटाई , काट
छटा शोभा , छवि , सुन्दरता ,खूबसूरती .
छल दगा , ठगी , फरेब , छलावा .
छाछ माहि , माठा, लस्सी , छाछी.
छाती सीना , वक्ष , उर .
छुटकारा मुक्ति , रिहाई ,निजात .
जलवारि , नीर , तीय ,अम्बु , उदक , पानी ,जीवन , पय, पेय ।
जहाज पोत , जलयान .
जंगलविपिन , कानन , वन, अरण्य, गहन ।
जमुनासूर्यसुता ,कृष्णा, अर्कजा ,रवितनया ,कालिंदी .
जीभरसना ,वाणी ,गिरा ,रसज्ञा.
झंडा फरहरा , ध्वज , पताका , निशान .
झरना प्रताप , उत्स , निर्झर , सोता , श्रोत .
झूठअसत्य , मिथ्या, मृषा, अनृत ।
तन काया , तनु ,  शरीर , देह , कलेवर .
तरुविटप, पादप , पेड़ ,द्रुम, वृक्ष .
तातपरम , प्यारा , पूज्य , पिता .
तालाबसरोवर , जलाशय , सर, पुष्कर , पोखरा, जलवान , सरसी ।
तलवारअसि,करवाल ,कृपाण,खडग ,शायक,चंद्रहास .
तीरवाण,सर ,नाराच ,विहंग शिलिमुख .
तोतासुग्गा ,शुक ,सुआ,कीर ,दाड़िमप्रिय .
दाससेवक , नौकर , चाकर , परिचारक , अनुचर ।
दरिद्रनिर्धन , गरीब , रंक , कंगाल , दीन।
दिनदिवस, याम , दिवा, वार, प्रमान।
दुःखपीड़ा ,कष्ट , व्यथा , वेदना , संताप , शोक , खेद , पीर, लेश ।
दूधदुग्ध , क्षीर , पय ।
दुष्टपापी , नीच , दुर्जन , अधम , खल , पामर ।
दर्पणशीशा , आरसी , आईना , मुकुर ।
दांतदन्त ,दसन ,रद .
दुर्गाचंडिका , भवानी , कुमारी , कल्याणी , महागौरी , कालिका , शिवा ।
देवतासुर, देव, अमर , वसु , आदित्य , लेख ।
धनुषधनुही ,धनु ,सारंग ,चाप ,शरासन .
धनदौलत , संपत्ति , सम्पदा, वित्त ।
धरतीपृथ्वी , भू, भूमि , धरणी, वसुंधरा , अचला , मही, रत्नवती , रत्नगर्भा ।
ध्वनिस्वर ,आवाज ,आहट .
नदीसरिता , तटीना , सरि, सारंग , जयमाला ।
नयानूतन , नव, नवीन , नव्य।
नरकयमलोक ,यमालय ,दुर्गति ,कुम्भीपाक .
नित्यसदा ,सर्वदा ,सतत ,निरंतर .
निरादरअपमान ,उपेक्षा ,अवहेलना ,तिरस्कार ,अवज्ञा .
नावनौका ,बेडा , तरणी,जलयान ,जलवाहन.
पवनवायु , हवा, समीर , वात , मारुत , अनिल, पवमान ।
पहाड़पर्वत , गिरी , अचल , नग, भूधर , महीधर ।
पक्षीखग, चिडिया , गगनचर , पखेरू , विहंग , नभचर ।
पानीजल ,नीर ,वारि ,सलिल ,अंबु.
पार्वतीउमा,गिरिजा ,गौरी ,शिवा ,भवानी ,अम्बिका .
पतिस्वामी , प्राणाधार , प्राणप्रिय, प्राणेश, आर्यपुत्र।
पत्नीगृहणी , बहु , वनिता , दारा, जोरू ,वामांगिनी ।
पुत्रबेटा , आत्मज, वत्स , तनुज , तनय, नंदन ।
पुत्रीबेटी, आत्मजा , तनूजा, सुता , तनया ।
पुष्पफूल , सुमन , कुसुम , मंजरी , प्रसून ।
फलमीजान,बीजकोश,पुष्पाण्ड,प्रभुभोज,सस्य,रसाबाद, फर,पुष्पज.
पृथ्वीधरती ,धरा ,भू ,भूमि ,जमीन,वसुंधरा ,धरणी .
प्रतीक संकेत , निशानी ,लक्षण.
प्रधान मुख्य , प्रमुख , वरिष्ठ.
प्रयत्न चेष्टा , प्रयास ,कोशिश ,उद्दम.
प्रसिद्ध मशहूर ,विख्यात ,बहुचर्चित.
प्राण जान ,जीव.
फूल सुमन ,कुसुम ,पुष्प.
फ़ौरन तत्काल , तुरंत ,तत्क्षण.
बचपन बाल्यपन ,लड़कपन ,छुटपन.
बल ताकत ,शक्ति , सत्व , जोर .
बाधा विघ्न , रुकावट , रोड़ा ,
बाण तीर , शर, विहंग , शलाका .
ब्राह्मण द्विज , विप्र , भूदेव .
बुद्धिमत्ता बुद्धिमानी , होशियारी , चतुरता , अक्लमंदी .
भाग्य किस्मत , तकदीर , प्रारब्ध ,नसीब .
भाषण वक्तव्य , व्याख्यान ,उपदेश
भ्रमर अलि, मधुप , मधुकर , भृंग ,भौरा
मदद सहयोग , सहायता , योगदान
मन अन्तकरण ,चित्त , दिल , मानस
मनोवृति आचरण वृति , प्रवृति , मानसिकता
मित्र सखा , सहचर , साथी ,दोस्त
मूल्य मोल , कीमत , कदर ,लागत ,दाम ,दर .
मृत्यु मौत , देहांत ,निधन ,अंत ,स्वर्गवास.
मोक्ष मुक्ति , निर्वाण , कैवल्य ,परम्पद .
मछली मीन ,मतस्य ,झष ,जलचरी .
मरू रेगिस्तान, मरुस्थल, ऊसर.
मर्मज्ञ मर्मवेदी , मर्मविद, तत्वज्ञ.
मर्यादा आचार, सीमा , रीति रेखा , सदाचार.
महत्व बड़प्पन, बड़ाई, गुरुता , महिमा ,महत्ता .
मोर मयूर , केकी ,शिखी ,कलापी.
बकरी छेरी , छागी ,अजा .
बादलमेघ, घन , जलधर , जलद, वारिद, नीरद , सारंग ।
बालूरेत , बालुका , सैकत ।
बन्दरवानर , कपि, कपीश, हरि।
बिजलीघनप्रिया , इन्द्र्वज्र, चपला , दामिनी , ताडित, विद्युत ।
ब्रह्माअज ,विधि ,विधाता ,प्रजापति ,निर्माता ,धाता ,चतुरानन ,प्रजाधिप .
बाणतीर ,शर ,सायक ,शिलीमुख .
विषजहर , हलाहल , गरल , कालकूट ।
वृक्षपेड़ , पादप , विटप , तरु , गाछ ।
विष्णुनारायण , दामोदर , पीताम्बर , चक्रपाणी ।
भूषणजेवर , गहना, आभूषण , अलंकार ।
भौराभ्रमण ,भँवरा,भृंग ,मिलिंद ,सारंग ,मधुप .
मालाकंठहार , हार , तस्बीह .
महेशमहादेव ,नीलकंठ ,चंद्रशेखर ,गंगाधर ,रूद्र ,शिव ,विश्वनाथ .
मनुष्यआदमी , नर, मानव, मानुष , मनुज ।
मदिराशराब , हाला, आसव, मधु, मद।
मोरकेक , कलापी, नीलकंठ , नर्तकप्रिय ।
मधुशहद , रसा, शहद, कुसुमासव ।
मृगहिरण, सारंग , कृष्णसार।
मछलीमीन , मत्स्य , जलजीवन , शफरी , मकर ।
मूर्खगँवार,अल्पमति ,अज्ञानी ,अपढ़ ,जड़ .
मृत्युदेहांत ,मौत , अंत ,स्वर्गवास ,मरण .
मोक्षमुक्ति ,परधाम ,निर्वाण , परमपद ,अपवर्ग .
यमराजधर्मराज ,यम ,अन्तक ,सूर्यपुत्र, दंडधर .
यंत्र मशीन , कल , उपकरण ,औजार .
यंत्रणा क्लेश , यातना , वेदना , पीड़ा , दुःख .
यकायक अचानक , एकाएक , सहसा .
यज्ञ याग , मख , हवन , होम , अनुष्ठान .
यति सन्यासी , तपस्वी , तापस , विराम .
यत्न कोशिश ,प्रयत्न , प्रयास ,उपचार .
यथार्थ ठीक , उचित , सत्य , असली , सही .
यथेष्ट अभीष्ट , इच्छानुसार , मनमाना .
यमुना सुर्यसुता, सूर्य तनया , स्वसा ,कृष्णा , हंससुता .
यश ख्याति , शोहरत , नेकनामी , कीर्ति , नाम .
यशोदा नंदरानी , यशोमती , महरि .
याचना प्रार्थना पत्र , आवेदन पत्र, अभ्यर्थनापत्र .
यात्रा सफ़र , देशाटन , सैर , भ्रमण .
याद स्मरण ,स्मृति , सुधि .
यान वाहन , सवारी , विमान .
युक्ति उपाय , ढंग , प्रवीणता , चतुराई .
युद्ध रण ,जंग , समर , समाघात .
युवक युवा , तरुण , जवान , नौजवान .
युवती तरुणी , बाला , कुमारी , रमणी .
योग मेल , मिलाप , संयोग , संपर्क , तपस्या .
योग्य सक्षम , कुशल , समर्थ , उपयुक्त .
योजना परिकल्पना , रुपरेखा , कार्यसाधन .
यौवन युवावस्था , जवानी , जोबन , तारुण्य .
रंक गरीब ,दरिद्र , कंगाल ,निर्धन .
रंगीला रसिया ,रसिक ,छैला ,मौजी .
रक्त रुधिर , लहू ,खून , रक्तिम .
रक्षा संरक्षण , सुरक्षा , प्रतिरक्षा , बचाव .
रजनी रात , रात्रि , निशा , यामिनी .
रण लड़ाई , युध्य , संग्राम , समर , जंग .
रत अनुरक्त , आसक्त , लिप्त ,निमग्न .
रत्ती जरा सा , थोड़ा सा ,रत्तीभर .
रत्नाकर समुन्द्र ,सागर , पारावार , वारिध .
रमणस्त्री प्रसंग , मैथुन . सम्भोग , रतिविलास .
रम्य सुन्दर , मनोरम , आकर्षक .
रस जूस , रस , शोरबा ,अनुराग ,उमंग .
राका पूर्णमासी , पूर्णिमा , पूनम , पूनो .
राक्षस निशाचर , निशिचर ,मनुजाद , दैत्य ,दानव .
राजा महिपाल , भूपाल , नरेश , पार्थ , सम्राट .
राधा राधिका , हरिप्रिया , ब्रजरानी , वृषभानुजा .
रानी स्वामिनी , मालकिन , बेगम , राजपत्नी .
राय मत , सम्मति , सलाह , धारणा , विचारणा .
रूचि चाह , इच्छा , अभिलाषा , कामना , पसंद .
रोग व्याधि , बीमारी , मर्ज़ , रुग्णता .
रोज़गार कारोबार , पेशा , जीविका , काम , व्यापार .
रोटी चपाती , फुलकी , फुल्का .
रोम बाल , लोम , रोयाँ .
रातरात्रि, रैन , रजनी , निशा , यामिनी , तमी, निशि , यामा।
राजानृप, भूप, भूपाल , नरेश , महीपति , अवनीपति ।
लंकालंकपुरी , रावणपूरी , सिंहलद्वीप , स्वर्णपुरी .
लंगडाअपाहिज , अपांग , पंगु , लुंज , लूका .
लकुटियाछड़ी , डंडा , लकुटी , लाठी ,सोटा .
लक्ष्मणअनंत , शेषावतार , सौमित्र ,रामानुज , अहिश .
लगामरास , बागडोर , बाग़ , कुशा , मुखरी .
लहरतरंग ,मौज , उर्मि, हिलकोर.
लाभमुनाफा , फायदा , नफा , बचत , बरकत .
लामसेना , फौज , आर्मी , बिग्रेड .
लुब्धकबहेलिया , आखेटक , शिकारी , अहेरी ,व्याध .
लोहालौह , इस्पात , फौलाद , अयस ,रुक्म .
लक्ष्मीकमला , पद्मा , रमा, हरिप्रिया , श्री , इंदिरा ।
विवाहशादी ,गठबंधन ,परिणय ,व्याह ,पाणिग्रहण .
समूहगण,झुण्ड ,संघ ,वृन्द ,समुदाय .
वायुपवन ,अनिल ,समीर, हवा ,वात .
वस्त्रकपडा , वसन ,अम्बर ,परिधान ,पट .
विषजहर ,हलाहल ,माहुर ,गरल ,कालकूट .
साँपसर्प , नाग , विषधर , उरग , पवनासन।
शिवभोलेनाथ ,शम्भू, त्रिलोचन , महादेव, नीलकंठ , शंकर।
सीताफलकाशीफल ,कुम्हड़ा ,पेठा.
सूर्यरवि , सूरज , दिनकर, प्रभाकर, आदीत्य, भास्कर , दिवाकर।
संसारजग, विश्व , जगत , लोक , दुनिया ।
शरीरदेह , तनु , काया , कलेवर , अंग , गात ।
सोनास्वर्ण , कंचन, कनक , हेम , कुंदन ।
स्त्रीअबला ,नारी ,महिला ,रमणी ,दारा,कान्ता.
सिंहकेशरी, शेर, महावीर, नाहर, सारंग , मृगराज ।
सेनावाहिनी ,कटक ,चमू .
समुद्रसागर, पयोधि, उदधि , पारावार, नदीश ,जलधि ।
हनुमानमहावीर ,पवनसुत ,रामदूत ,मारुती ,कपीश ,बजरंगबली .
हर्षआनंद ,प्रसन्नता ,प्रमोद ,सुख ,आमोद .
हाथीगज ,सिंघु ,हस्ती ,नाग ,मतंग,गजेन्द्र .
शत्रुरिपु , दुश्मन , अमित्र , वैरी ।
हिमालयहिमगिरी , हिमाचल , गिरिराज , पर्वतराज , नगेश।
ह्रदयछाती , वक्ष , वक्षस्थल , हिय , उर ।
हंसमराल , सारंग ,राजहंस ,धवलपक्ष
हक़अधिकार , दावा ,कब्ज़ा ,प्रभुत्व .
हतआहत , घायल ,हताहत .
हलफ़कसम , सौगंध , शपथ
हाकिमशासक , शासनकर्ता ,प्रशासनकर्ता .
हाटकसोना , कंचन , कुंदन , हेम ,कनक .
हालाशराब , दारु , सुरा , मय.
हिज्रवियोग , विरह , जुदाई ,विछोह .
हिब्बादान , खैरात , जकात .
हिमकूटजाड़ा ,सर्दी ,शीतकाल .
हिमारिआग , अग्नि , अनल ,पावक .
हिरासभय , डर , दहशत ,खौफ .
हूँसपीड़ा , दर्द , टीस, कसक .
हेमकारसुनार , स्वर्णकार , सोनार ,जौहरी .
हेमतरुधतूरा ,कंटकफल , कनक ,मंदार .
हेमरागिनीहरिता , हल्दी , कावेरी , भद्रा .
हेमलछिपकली ,पल्ली , बिस्तुइया .
हेमाभू , भूमि , धरा , धरती ,वसुधा ,वसुंधरा ,पृथ्वी .
हेरंबगणेश , गणपति , एकदंत , गणनायक .
हैदरशेर , सिंह , केसरी , केहरी , वनराज .
होड़प्रतियोगिता , स्पर्धा , मुकाबला ,प्रतिद्वंदिता .
अंधकारतम, तिमिर, अँधेरा, तमस, अंधियारा.
आमरसाल, आम्र, सौरभ, अमृतफल.
आंसूनेत्रजल, नयनजल, चक्षुजल, अश्रु.
आत्माजीव, चैतन्य, चेतनतत्तव, अंतःकरण.
आगअग्नि, अनल, हुतासन, पावक, कृशानु, वहनि, शिखी, वह्नि.
आँखलोचन, नयन, नेत्र, चक्षु, दृष्टि.
आकाशनभ, गगन, अम्बर, व्योम, आसमान, अर्श.
आनंदहर्ष, सुख, आमोद, मोद, प्रमोद, उल्लास.
आश्रमकुटी, विहार, मठ, संघ, अखाड़ा.
अग्निआग, अनल, पावक.
अपमानअनादर, अवज्ञा, अवहेलना, तिरस्कार.
अलंकारआभूषण, गहना, जेवर.
अहंकारदंभ, अभिमान, दर्प, मद, घमंड.
अमृतसुधा, अमिय, पीयूष, सोम.
असुरदैत्य, दानव, राक्षस, निशाचर, रजनीचर, दनुज, रात्रिचर, तमचर.
अतिथिमेहमान, अभ्यागत, आगन्तुक.
अनुपमअपूर्व, अतुल्य, अनोखा, अद्भुत, अनन्य.
अर्थधन, द्रव्य, मुद्रा, दौलत, वित्त, पैसा.
अश्वहय, तुरंग, घोड़ा, घोटक, बाजि, सैन्धव.
इच्छाअभिलाषा, चाह, कामना, लालसा, मनोरथ, आकांक्षा, अभीष्ट.
इन्द्रसुरेश, सुरेन्द्र, देवेन्द्र, सुरपति, शक्र, पुरंदर, देवराज, महेन्द्र, शचीपति.
इन्द्राणिइन्द्रवधू, मधवानी, शची, शतावरी, पोलोमी.
ईश्वरपरमात्मा, प्रभु, ईश, जगदीश, भगवान, परमेश्वर, जगदीश्वर, विधाता.
उपवनबाग़, बगीचा, उद्यान, वाटिका, गुलशन.
उक्तिकथन, वचन, सूक्ति.
उग्रप्रचण्ड, उत्कट, तेज, तीव्र, विकट.
उचितठीक, मुनासिब, वाज़िब, समुचित, युक्तिसंगत, न्यायसंगत, तर्कसंगत.
उच्छृंखलउद्दंड, अक्खड़, आवारा, निरकुंश, मनमर्जी, स्वेच्छाचारी.
उज्जड़अशिष्ट, असभ्य, गँवार, जंगली, देहाती, उद्दंड, निरकुंश.
उजलाउज्ज्वल, श्वेत, सफ़ेद, धवल.
उजाड़जंगल, बियावान, वन.
उजालाप्रकाश, रोशनी, चाँदनी.
उत्कर्षसमृद्धि, उन्नति, प्रगति, उठान.
उत्कृष्टउत्तम, उन्नत, श्रेष्ठ, अच्छा, बढ़िया, उम्दा.
उत्कोचघूस, रिश्वत.
उत्पत्तिउद्गम, पैदाइश, जन्म, उद्भव, सृष्टि, आविर्भाव, उदय.
उद्धारमुक्ति, छुटकारा, निस्तार.
उपाययुक्ति, साधन, तरकीब, तदबीर, यत्न, प्रयत्न.
ऊधमउपद्रव, उत्पात, धूम, हुल्लड़, हुड़दंग, धमाचौकड़ी.
ऐक्यएकत्व, एका, एकता, मेल.
ऐश्वर्यसमृद्धि, विभूति.
ओजतेज, शक्ति, बल, वीर्य.
ओंठओष्ठ, अधर, होंठ.
औचकअचानक, यकायक, सहसा.
औरतस्त्री, जोरू, घरनी, घरवाली.
किसानकृषक, भूमिपुत्र, हलधर, खेतिहर, अन्नदाता.
कृष्णराधापति, घनश्याम, वासुदेव, माधव, मोहन, केशव, गोविन्द, गिरधारी.
कानकर्ण, श्रुति, श्रुतिपटल, श्रवण श्रोत, श्रुतिपुट.
कोयलकोकिला, पिक, काकपाली, बसंतदूत, सारिका, कुहुकिनी, वनप्रिया.
क्रोधरोष, कोप, अमर्ष, कोह, प्रतिघात.
कीर्तियश, प्रसिद्धि.
ऋषिमुनि, साधु, यति, संन्यासी, तत्वज्ञ, तपस्वी.
कचबाल, केश, कुन्तल, चिकुर, अलक, रोम, शिरोरूह.
कमलनलिन, अरविंद, उत्पल, राजीव, पद्म, पंकज, नीरज, सरोज, जलज, जलजात, शतदल, पुण्डरीक, इन्दीवर.
कबूतरकपोत, रक्तलोचन, पारावत.
कामदेवमदन, मनोज, अनंग, काम, रतिपति, पुष्पधन्वा, मन्मथ.
कण्ठग्रीवा, गर्दन, गला.
कृपाप्रसाद, करुणा, दया, अनुग्रह.
किताबपोथी, ग्रन्थ, पुस्तक.
किनारातीर, कूल, कगार, तट.
कपड़ाचीर, वसन, पट, वस्त्र, परिधान.
किरणज्योति, प्रभा, रश्मि, दीप्ति.
खगपक्षी, विहग, नभचर, अण्डज, पखेरू.
खंभास्तूप, स्तम्भ, खंभ.
खलदुर्जन, दुष्ट, घूर्त, कुटिल.
खूनरक्त, लहू, शोणित, रुधिर.
गजहाथी, हस्ती, मतंग, कूम्भा, मदकल .
गायगौ, धेनु, भद्रा.
गंगादेवनदी, मंदाकिनी, भगीरथी, विश्नुपगा, देवपगा, देवनदी, जाह्नवी, त्रिपथगा.
गणेशविनायक, गजानन, गौरीनंदन, गणपति, गणनायक, शंकरसुवन, लम्बोदर, एकदन्त.
गृहघर, सदन, भवन, धाम, निकेतन, निवास, आलय, आवास.
गर्मीताप, ग्रीष्म, ऊष्मा, गरमी.
गुरुशिक्षक, आचार्य, उपाध्याय.
घटघड़ा, कलश, कुम्भ, निप.
घरआलय, आवास, गृह, निकेतन, निवास, भवन, वास, वास
घृतघी, अमृत, नवनीत.
घासतृण, दूर्वा, दूब, कुश.
चरणपद, पग, पाँव, पैर, पाद.
चतुरविज्ञ, निपुण, नागर, पटु, कुशल, दक्ष, प्रवीण, योग्य.
चंद्रमाचाँद, चन्द्र, शशि, रजनीश, निशानाथ, सोम, कलानिधि.
चाँदनीचन्द्रिका, कौमुदी, ज्योत्सना, चन्द्रमरीचि, उजियारी, चन्द्रप्रभा, जुन्हाई.
चाँदीरजत, सौध, रूपा, रूपक, रौप्य, चन्द्रहास.
चोटीमूर्धा, सानु, शृंग.
छतरीछत्र, छाता.
छलीछलिया, कपटी, धोखेबाज.
छविशोभा, सौंदर्य, कान्ति, प्रभा.
छानबीनजाँच, पूछताछ, खोज, अन्वेषण, शोध.
छैलासजीला, बाँका, शौकीन.
छोरनोक, कोर, किनारा, सिरा.
जलसलिल, वारि, नीर, तोय, अम्बु, पानी, पय, पेय.
जगतसंसार, विश्व, जग, भव, दुनिया, लोक.
जीभरसज्ञा, जिह्वा, वाणी, वाचा, जबान.
जंगलकानन, वन, अरण्य, गहन, कांतार, बीहड़, विटप.
जेवरगहना, अलंकार, भूषण.
ज्योतिआभा, छवि, द्युति, दीप्ति, प्रभा.
झूठअसत्य, मिथ्या.
तरुवरवृक्ष, पेड़, द्रुम, तरु, पादप.
तलवारअसि, कृपाण, करवाल, चन्द्रहास.
तालाबसरोवर, जलाशय, पुष्कर, पोखरा.
तीरशर, बाण, अनी, सायक.
दाससेवक, नौकर, चाकर, अनुचर, भृत्य.
दधिदही, गोरस, मट्ठा.
दरिद्रनिर्धन, ग़रीब, रंक, कंगाल, दीन.
दिनदिवस, याम, दिवा, वार.
दीनग़रीब, दरिद्र, रंक, अकिंचन, निर्धन, कंगाल.
दीपकदीप, दीया, प्रदीप.
दुःखपीड़ा,कष्ट, व्यथा, वेदना, संताप, शोक, खेद, पीर.
दूधदुग्ध, क्षीर, पय, गौरस, स्तन्य.
दुष्टपापी, नीच, दुर्जन, अधम, खल, पामर.
दाँतदन्त.
दर्पणशीशा, आरसी, आईना.
दुर्गाचंडिका, भवानी, कल्याणी, महागौरी, कालिका, शिवा, चण्डी, चामुण्डा.
देवतासुर, देव.
देहकाया, तन, शरीर.
धनदौलत, संपत्ति, सम्पदा, वित्त.
धरतीधरा, धरती, वसुधा, ज़मीन, पृथ्वी, भू, भूमि, धरणी, वसुंधरा, अचला, मही, रत्नगर्भा.
धनुषचाप, शरासन, कमान, कोदंड, धनु.
नदीसरिता, तटिनी, सरि, सारंग, तरंगिणी, दरिया, निर्झरिणी.
नयानूतन, नव, नवीन, नव्य.
नावनौका, तरणी, तरी.
पवनवायु, हवा, समीर, वात, मारुत, अनिल.
पहाड़पर्वत, गिरि, अचल, शैल, भूधर, महीधर.
पक्षीखेचर, दविज, पतंग, पंछी, खग, चिड़िया, गगनचर, पखेरू, विहंग, नभचर.
पतिस्वामी, प्राणाधार, प्राणप्रिय, प्राणेश.
पत्नीभार्या, वधू, वामा, अर्धांगिनी, सहधर्मिणी, गृहणी, बहु, वनिता, दारा, जोरू, वामांगिनी.
पुत्रबेटा, आत्मज, सुत, वत्स, तनुज, तनय, नंदन.
पुत्रीबेटी, आत्मजा, तनूजा, सुता, तनया.
पुष्पफूल, सुमन, कुसुम, मंजरी, प्रसून.
फूलपुष्प, सुमन, कुसुम, गुल, प्रसून.
बादलमेघ, घन, जलधर, जलद, वारिद, पयोधर.
बालूरेत, बालुका, सैकत.
बन्दरवानर, कपि, हरि.
बिजलीघनप्रिया, इन्द्र्वज्र, चंचला, सौदामनी, चपला, दामिनी, तड़ित, विद्युत.
बगीचाबाग़, वाटिका, उपवन, उद्यान, फुलवारी, बगिया.
बाणसर, तीर, सायक, विशिख.
बालकच, केश, चिकुर, चूल.
ब्रह्माविधाता, स्वयंभू, प्रजापति, पितामह, चतुरानन, विरंचि, अज.
बलदेवबलराम, बलभद्र, हलायुध, रोहिणेय.
बहुतअनेक, अतीव, अति, बहुल, प्रचुर, अपरिमित, प्रभूत, अपार, अमित, अत्यन्त, असंख्य.
ब्राह्मणद्विज, भूदेव, विप्र, महीदेव, भूमिसुर, भूमिदेव.
भयभीति, डर, विभीषिका.
भाईतात, अनुज, अग्रज, भ्राता, भ्रातृ.
भूषणजेवर, गहना, आभूषण, अलंकार.
भौंरामधुप, मधुकर, द्विरेप, अलि, षट्पद, भृंग, भ्रमर.
मनुष्यआदमी, नर, मानव, मानुष, मनुज.
मदिराशराब, हाला, आसव, मद.
मोरकलापी, नीलकंठ, नर्तकप्रिय.
मधुशहद, रसा, शहद.
मृगहिरण, सारंग, कृष्णसार.
मछलीमीन, मत्स्य, जलजीवन, शफरी, मकर.
माताजननी, माँ, अंबा, जनयत्री, अम्मा.
मित्रसखा, सहचर, साथी, दोस्त.
यमसूर्यपुत्र, जीवितेश, कृतांत, अन्तक, दण्डधर, कीनाश, यमराज.
यमुनाकालिन्दी, सूर्यसुता, रवितनया, तरणि
युवतियुवती, सुन्दरी, श्यामा, किशोरी, तरुणी, नवयौवना.
रमाइन्दिरा, हरिप्रिया, श्री, लक्ष्मी, कमला, पद्मा, पद्मासना, समुद्रजा, श्रीभार्गवी, क्षीरोदतनया.
रातरात्रि, रैन, रजनी, निशा, यामिनी, निशि, यामा, विभावरी.
राजानृप, नृपति, भूपति, नरपति, भूपाल, नरेश, महीपति, अवनीपति.
रात्रिनिशा, रैन, रात, यामिनी, शर्वरी, तमस्विनी, विभावरी.
रामचन्द्रसीतापति, राघव, रघुपति, रघुवर, रघुनाथ, रघुराज, रघुवीर, जानकीवल्लभ, कौशल्यानन्दन.
रावणदशानन, लंकेश, लंकापति, दशशीश, दशकंध.
राधिकाराधा, ब्रजरानी, हरिप्रिया, वृषभानुजा.
लड़काबालक, शिशु, सुत, किशोर, कुमार.
लड़कीबालिका, कुमारी, सुता, किशोरी, बाला, कन्या.
लक्ष्मीकमला, पद्मा, रमा, हरिप्रिया, श्री, इंदिरा, पद्मजा, सिन्धुसुता, कमलासना.
लक्ष्मणलखन, शेषावतार, सौमित्र, रामानुज, शेष.
लौहअयस, लोहा, सार.
लताबल्लरी, बल्ली, बेली.
वायुहवा, पवन, समीर, अनिल, वात, मारुत.
वसनअम्बर, वस्त्र, परिधान, पट, चीर.
विधवाअनाथा, पतिहीना.
विषज़हर, हलाहल, गरल, कालकूट.
वृक्षपेड़, पादप, विटप, तरू, गाछ, दरख्त, शाखी, विटप, द्रुम.
विष्णुनारायण, चक्रपाणी.
विश्वजगत, जग, भव, संसार, लोक, दुनिया.
विद्युतचपला, चंचला, दामिनी, सौदामिनी, तड़ित, बीजुरी, घनवल्ली, क्षणप्रभा, करका.
बारिशवर्षण, वृष्टि, वर्षा, पावस, बरसात.
वीर्यजीवन, सार, तेज, शुक्र, बीज.
वज्रकुलिस, पवि, अशनि, दभोलि.
विशालविराट, दीर्घ, वृहत, बड़ा, महान.
वृक्षगाछ, तरु, पेड़, द्रुम, पादप, विटप, शाखी.
शिवभोलेनाथ, शम्भू, त्रिलोचन, महादेव, नीलकंठ, शंकर.
शरीरदेह, तनु, काया, कलेवर, अंग, गात.
शत्रुरिपु, दुश्मन, अमित्र, वैरी, अरि, विपक्षी.
सीतावैदेही, जानकी, भूमिजा, जनकतनया, जनकनन्दिनी, रामप्रिया.
शिक्षकगुरु, अध्यापक, आचार्य, उपाध्याय.
शेरकेहरि, केशरी, वनराज, सिंह.
शेषनागअहि, नाग, भुजंग, व्याल, उरग, पन्नग, फणीश, सारंग.
शुभ्रगौर, श्वेत, अमल, वलक्ष, शुक्ल, अवदात.
शहदपुष्परस, मधु, आसव, रस, मकरन्द.
षंडहीजड़ा, नपुंसक, नामर्द.
षडाननषटमुख, कार्तिकेय, षाण्मातुर.
साँपअहि, भुजंग, ब्याल, सर्प, नाग, विषधर, उरग, पवनासन.
सूर्यरवि, सूरज, दिनकर, प्रभाकर, आदित्य, दिनेश, भास्कर, दिनकर, दिवाकर, भानु, आदित्य.
समूहदल, झुंड, समुदाय, टोली, जत्था, मण्डली, वृंद, गण, पुंज, संघ, समुच्चय.
सभाअधिवेशन, संगीति, परिषद, बैठक, महासभा.
सुन्दरकलित, ललाम, मंजुल, रुचिर, चारु, रम्य, मनोहर, सुहावना, चित्ताकर्षक, रमणीक, कमनीय, उत्कृष्ट, उत्तम, सुरम्य.
सन्ध्यासायंकाल, शाम, साँझ, प्रदोषकाल, गोधूलि.
संसारजग, विश्व, जगत, लोक, दुनिया.
सोनास्वर्ण, कंचन, कनक, हेम, कुंदन.
सिंहकेसरी, शेर, मृगपति, वनराज, शार्दूल, नाहर, सारंग, मृगराज.
समुद्रसागर, पयोधि, उदधि, पारावार, नदीश, जलधि, सिंधु, रत्नाकर, वारिधि.
समसर्व, समस्त, सम्पूर्ण, पूर्ण, समग्र, अखिल, निखिल.
समीपसन्निकट, आसन्न, निकट, पास.

Ganga ka Paryayvachi Shabd – सुरसरिता, मंदाकिनी, देवपगा, देवनदी, अमरतरंगिनी, जाह्नवी, नदीश्वरी, भगीरथी, देवनदी, विश्नुपगा, विष्णुपदी, ध्रुवनंदा, त्रिपथगा, सुरसरि।

Pakshi ka Paryayvachi Shabd – नभचर, गगनचर, विहग, दविज, शकुन्त, पखेरू, विहंग, परिन्दा, पतंग, चिडिया, खग, पंछी, अण्डज, खेचर।

Sher ka Paryayvachi Shabd – मृगराज, मृगेन्द्र, केशरी, सिंह, हरि, मृगराज, हरि, व्याघ्र, केहरि, वनराज, शार्दूल।

Ghoda ka Paryayvachi Shabd – हय, तुरंग, घोट, अश्व, घोटक।

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर किया गया यह “पर्यायवाची शब्दों का विशाल संग्रह (Paryayvachi Shabd in Hindi)” आपको पसंद आया होगा। आपको यह कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। इन पर्यायवाची शब्दों का आगे शेयर जरूर करें।

Home Page – Encip.org

Leave a Comment