Kabir Das Ka Jivan Parichay | कबीर दास का जीवन परिचय

Kabir Das Ka Jivan Parichay | कबीर दास का जीवन परिचय | Kabir Das Biography in Hindi

Kabir Das

Kabir Das Ka Jivan Parichay
पूरा नामसंत कबीरदास
अन्य नामकबीरा, कबीर साहब
जन्मसन 1398 (लगभग)
जन्म भूमिलहरतारा ताल, काशी
मृत्युसन 1518 (लगभग)
मृत्यु स्थानमगहर, उत्तर प्रदेश
पालक माता-पितानीरु और नीमा
पति/पत्नीलोई
संतानकमाल (पुत्र), कमाली (पुत्री)
कर्म भूमिकाशी, बनारस
कर्म-क्षेत्रसमाज सुधारक कवि
मुख्य रचनाएँसाखी, सबद और रमैनी
विषयसामाजिक
भाषाअवधी, सधुक्कड़ी, पंचमेल खिचड़ी
शिक्षानिरक्षर

Kabir Das In Hindi | Kabir Das Biography in Hindi

कबीर दास  का जन्म 1398 ई० में हुआ था। कबीर दास के जन्म के संबंध में लोगों द्वारा अनेक प्रकार की बातें कही जाती हैं कुछ लोगों का कहना है कि वह जगत गुरु रामानंद स्वामी (Ramanand Swami) जी के आशीर्वाद से काशी की एक विधवा ब्राह्मणी के गर्भ से उत्पन्न हुए थे। यह स्पष्ट रूप से उनके जन्म के बारे में ज्ञात नहीं है, लेकिन यह ध्यान दिया जाता है कि उनका पालन-पोषण एक बहुत ही गरीब मुस्लिम बुनकर परिवार ने किया था। वे बहुत आध्यात्मिक थे और एक महान साधु बन गए। अपनी प्रभावशाली परंपराओं और संस्कृति के कारण उन्हें दुनिया भर में प्रसिद्धि मिली।

ब्राह्मणी उस नवजात शिशु को लहरतारा ताल के पास फेंक आई। उसे वहां से एक नीरू नाम का जुलाहा अपने घर लेकर आया और उसी ने उनका पालन पोषण किया। बाद में इस बालक को कबीर कहा जाने लगा। कुछ लोगों का कहना है कि वे जन्म से मुसलमान थे और युवावस्था में स्वामी रामानंद (Swami Ramanand) के प्रभाव से उन्हें हिंदू धर्म की बातें मालूम हुई एक दिन, रात के समय Kabir Das पंचगंगा घाट की सीढ़ियों पर गिर पड़े।

रामानंद जी, गंगा स्नान करने के लिए सीढ़ियों से उतर रहे थे कि तभी अचानक उनका पैर कबीर के शरीर पर पड़ गया उनके मुख से तत्काल राम-राम शब्द निकल पड़ा उसी राम को कबीर ने दीक्षा-मंत्र मान लिया और रामानंद जी को अपना गुरु स्वीकार कर लिया।

Surdas ka Jivan Parichay in Hindi | Surdas Biography – Click Here
  • GK Questions in Hindi | Top 100 General Knowledge In Hindi – Click Here
  • Qutub Minar ki lambai | Qutub Minar Information – Click Here

कबीर की शिक्षा (Kabir ki Shiksha)

ऐसा कहा जाता हैं कि कबीर को बचपन में पढ़ने-लिखने में कोई रूचि नहीं थी और साथ ही न ही उनकी कोई खेल-कूद में रूचि थी। परिवार में अत्यधिक गरीबी के कारण उनके माता-पिता भी उनको पढ़ाने की स्थिति में नहीं थे। इसलिए कबीर ने कभी भी अपने जीवन में किताबी शिक्षा ग्रहण नहीं की।

कहा जाता हैं कि कबीर के मुख से कहे गये दोहों को लिखित रूप उनके शिष्यों द्वारा किया गया। कबीर के कामात्य और लोई नाम के दो शिष्य थे, जिनका कबीर ने अपने दोहों में कई बार ज़िक्र किया हैं।

कबीर दास का वैवाहिक जीवन

Kabir Das का विवाह वनखेड़ी बैरागी की पालिता कन्या ‘लोई’ के साथ हुआ। कबीर दास की कमाल और कमाली नामक दो संतानें भी थी जबकि कबीर को कबीर पंथ में बाल ब्रह्मचारी माना जाता है इस पंथ के अनुसार कमाल उसका शिष्य था और कमाली तथा लोई उनकी शिष्या थी।

कबीरदास की भाषा और शैली

Kabir Das की भाषा शैली में उन्होंने अपनी बोलचाल की भाषा का ही प्रयोग किया है भाषा पर कबीर का जबरदस्त अधिकार था। वो अपनी जिस बात को जिस रूप में प्रकट करना चाहते थे उसे उसी रूप में प्रकट करने की क्षमता उनके पास थी।

ऐतिहासिक कुआं

All About Kabir Das in Hindi :- कबीर मठ में यहां एक ऐतिहासिक कुआं है, जिसका पानी उनकी साधना के अमृत रस में मिला हुआ माना जाता है। इसका अनुमान सबसे पहले दक्षिण भारत के महान पंडित सर्वानंद ने लगाया था। वह यहाँ कबीर से वाद-विवाद करने आया और उसे प्यास लगी। उन्होंने पानी पिया और कमाली से कबीर का पता पूछा। कमाली नें कबीर के दोहे के रुप में उनका पता बताया।

“कबीर का शिखर पर, सिलहिली गाल

पाँव ना टिकाई पीपील का, पंडित लड़े बाल”

वे कबीर से बहस करने गये थे लेकिन उन्होंने बहस करना स्वीकार नहीं किया और सर्वानंद को लिखित देकर अपनी हार स्वीकार की। सर्वानंद वापस अपने घर आये और हार की उस स्वीकारोक्ति को अपने माँ को दिखाया और अचानक उन्होंने देखा कि उनका लिखा हुआ उल्टा हो चुका था। वो इस सच्चाई से बेहद प्रभावित हुए और वापस से काशी के कबीर मठ आये बाद में कबीर दास के अनुयायी बने। वे कबीर से इस स्तर तक प्रभावित थे कि अपने पूरे जीवन भर उन्होंने कभी कोई किताब नहीं छुयी। बाद में, सर्वानंद आचार्य सुरतीगोपाल साहब की तरह प्रसिद्ध हुए। कबीर के बाद वे कबीर मठ के प्रमुख बने।

कैसे पहुँचे

सिद्धपीठ कबीरचौरा मठ मुलगड़ी वाराणसी के रुप में जाना जाने वाला भारत के प्रसिद्ध सांस्कृतिक शहर में स्थित है। कोई भी यहाँ हवाईमार्ग, रेलमार्ग या सड़कमार्ग से पहुँच सकता है। ये वाराणसी हवाई अड्डे से 18 किमी और वाराणसी रेलवे स्टेशन से 3 किमी की दूरी पर स्थित है।

काशी नरेश यहाँ क्षमा माँगने आये थे

एक बार की बात है, काशी नरेश राजा वीरदेव सिंह जुदेव अपना राज्य छोड़ने के दौरान माफी माँगने के लिये अपनी पत्नी के साथ कबीर मठ आये थे। कहानी ऐसे है कि: एक बार काशी नरेश ने कबीर दास की ढ़ेरों प्रशंसा सुनकर सभी संतों को अपने राज्य में आमंत्रित किया, कबीर दास राजा के यहाँ अपनी एक छोटी सी पानी के बोतल के साथ पहुँचे।

उन्होंने उस छोटे बोतल का सारा पानी उनके पैरों पर डाल दिया, कम मात्रा का पानी देर तक जमीन पर बहना शुरु हो गया। पूरा राज्य पानी से भर उठा, इसलिये कबीर से इसके बारे में पूछा गया उन्होंने कहा कि एक भक्त जो जगन्नाथपुरी में खाना बना रहा था उसकी झोपड़ी में आग लग गयी।

जो पानी मैंने गिराया वो उसके झोपड़ी को आग से बचाने के लिये था। आग बहुत भयानक थी इसलिये छोटे बोतल से और पानी की जरुरत हो गयी थी। लेकिन राजा और उनके अनुयायी इस बात को स्वीकार नहीं किया और वे सच्चा गवाह चाहते थे।

उनका विचार था कि आग लगी उड़ीसा में और पानी डाला जा रहा है काशी में। राजा ने अपने एक अनुगामी को इसकी छानबीन के लिये भेजा। अनुयायी आया और बताया कि कबीर ने जो कहा था वो बिल्कुल सत्य था।

इस बात के लिये राजा बहुत शर्मिंदा हुए और तय किया कि वो माफी माँगने के लिये अपनी पत्नी के साथ कबीर मठ जाएँगे। अगर वो माफी नहीं देते है तो वो वहाँ आत्महत्या कर लेंगे। उन्हें वहाँ माफी मिली और उस समय से राजा कबीर मठ से हमेशा के लिये जुड़ गये।

समाधि मंदिर

समाधि मंदिर वहाँ बना है जहाँ कबीर दास अक्सर अपनी साधना किया करते थे। सभी संतों के लिये यहाँ समाधि से साधना तक की यात्रा पूरी हो चुकी है। उस दिन से, ये वो जगह है जहाँ संत अत्यधिक ऊर्जा के बहाव को महसूस करते है।

ये एक विश्व प्रसिद्ध शांति और ऊर्जा की जगह है। ऐसा माना जाता है कि उनकी मृत्यु के बाद लोग उनके शरीर के अंतिम संस्कार को लेकर झगड़ने लगे। लेकिन जब समाधि कमरे के दरवाजे को खोला गया, तो वहाँ केवल दो फूल थे जो अंतिम संस्कार के लिये उनके हिन्दू और मुस्लिम अनुयायियों के बीच बाँट दिया गया। मिर्ज़ापुर के मोटे पत्थर से समाधि मंदिर का निर्माण किया गया है।

कबीर चबूतरा पर बीजक मंदिर

ये जगह कबीर दास का कार्यस्थल होने के साथ साधना स्थल भी था। ये वो जगह है जहाँ कबीर ने अपने अनुयायियों को भक्ति, ज्ञान, कर्म और मानवता की शिक्षा दी। इस जगह का नाम रखा गया कबीर चबूतरा। बीजक कबीर दास की महान रचना थी इसी वजह से कबीर चबूतरा का नाम बीजक मंदिर रखा गया।

कबीर तेरी झोपड़ी, गलकट्टो के पास।

जो करेगा वो भरेगा, तुम क्यों होत उदास।

15वीं शताब्दी में, वाराणसी में लोगों के जीवन के सभी क्षेत्रों में शिक्षण केन्द्रों के साथ ही ब्राह्मण धर्मनिष्ठता के द्वारा मजबूती से संघटित हुआ था। जैसा कि वे एक निम्न जाति जुलाहा से संबंध रखते थे कबीर दास अपने विचारों को प्रचारित करने में कड़ी मेहनत करते थे। वे कभी भी लोगों में भेदभाव नहीं करते थे चाहे वो वैश्या, निम्न या उच्च जाति से संबंध रखता हो।

वे खुद के अनुयायियों के साथ सभी को एक साथ उपदेश दिया करते थे। ब्राह्मणों द्वारा उनका अपने उपदेशों के लिये उपहास उड़ाया जाता था लेकिन वे कभी उनकी बुराई नहीं करते थे इसी वजह से कबीर सामान्य जन द्वारा बहुत पसंद किये जाते थे। वे अपने दोहो के द्वारा जीवन की असली सच्चाई की ओर आम-जन के दिमाग को ले जाने की शुरुआत कर चुके थे।

वे हमेशा मोक्ष के साधन के रुप में कर्मकाण्ड और सन्यासी तरीकों का विरोध करते थे। उन्होंने कहा कि अपनों के लाल रंग से ज्यादा महत्व है अच्छाई के लाल रंग का। उनके अनुसार, अच्छाई का एक दिल पूरी दुनिया की समृद्धि को समाहित करता है।

एक व्यक्ति दया के साथ मजबूत होता है, क्षमा उसका वास्तविक अस्तित्व है तथा सही के साथ कोई व्यक्ति कभी न समाप्त होने वाले जीवन को प्राप्त करता है। कबीर ने कहा कि भगवान आपके दिल में है और हमेशा साथ रहेगा। तो उनकी भीतरी पूजा कीजिये। उन्होंने अपने एक उदाहरण से लोगों का दिमाग परिवर्तित कर दिया कि अगर यात्रा करने वाला चलने के काबिल नहीं है, तो यात्री के लिये रास्ता क्या करेगा।

उन्होंने लोगों की आँखों को खोला और उन्हें मानवता, नैतिकता और धार्मिकता का वास्तविक पाठ पढ़ाया। वे अहिंसा के अनुयायी और प्रचारक थे। उन्होंने अपने समय के लोगों के दिमाग को अपने क्रांतिकारी भाषणों से बदल दिया।

कबीर के पैदा होने और वास्तविक परिवार का कोई पुख्ता प्रमाण मौजूद नहीं है। कुछ कहते है कि वो मुस्लिम परिवार में जन्मे थे तो कोई कहता है कि वो उच्च वर्ग के ब्राह्मण परिवार से थे। उनके निधन के बाद हिन्दू और मुस्लिमों में उनके अंतिम संस्कार को लेकर विवाद हो गया था। उनका जीवन इतिहास प्रसिद्ध है और अभी तक लोगों को सच्ची इंसानियत का पाठ पढ़ाता है।

कबीर दास: एक हिन्दू या मुस्लिम

ऐसा माना जाता है कि कबीर दास के मृत्यु के बाद हिन्दू और मुस्लिमों ने उनके शरीर को पाने के लिये अपना-अपना दावा पेश किया। दोनों धर्मों के लोग अपने रीति-रिवाज़ और परंपरा के अनुसार कबीर का अंतिम संस्कार करना चाहते थे। हिन्दुओं ने कहा कि वो हिन्दू थे इसलिये वे उनके शरीर को जलाना चाहते है जबकि मुस्लिमों ने कहा कि कबीर मुस्लिम थे इसलिये वो उनको दफनाना चाहते है।

लेकिन जब उन लोगों ने कबीर के शरीर पर से चादर हटायी तो उन्होंने पाया कि कुछ फूल वहाँ पर पड़े है। उन्होंने फूलों को आपस में बाँट लिया और अपने-अपने रीति-रिवाजों से महान कबीर का अंतिम संस्कार संपन्न किया।

कबीर दास जी की मुख्य रचनाएं | Kabir Das ki Rachnaye

साखी– इसमें ज्यादातर कबीर दास जी की शिक्षाओं और सिद्धांतों का उल्लेख मिलता है।

सबद –कबीर दास जी की यह सर्वोत्तम रचनाओं में से एक है, इसमें उन्होंने अपने प्रेम और अंतरंग साधाना का वर्णन खूबसूरती से किया है।

रमैनी- इसमें कबीरदास जी ने अपने कुछ दार्शनिक एवं रहस्यवादी विचारों की व्याख्या की है। वहीं उन्होंने अपनी इस रचना को चौपाई छंद में लिखा है।

कबीर दास जी की अन्य रचनाएं | Kabir Das ki Rachna

  • साधो, देखो जग बौराना – कबीर
  • कथनी-करणी का अंग -कबीर
  • करम गति टारै नाहिं टरी – कबीर
  • चांणक का अंग – कबीर
  • नैया पड़ी मंझधार गुरु बिन कैसे लागे पार – कबीर
  • मोको कहां – कबीर
  • रहना नहिं देस बिराना है – कबीर
  • दिवाने मन, भजन बिना दुख पैहौ – कबीर
  • राम बिनु तन को ताप न जाई – कबीर
  • हाँ रे! नसरल हटिया उसरी गेलै रे दइवा – कबीर
  • हंसा चलल ससुररिया रे, नैहरवा डोलम डोल – कबीर
  • अबिनासी दुलहा कब मिलिहौ, भक्तन के रछपाल – कबीर
  • सहज मिले अविनासी / कबीर
  • सोना ऐसन देहिया हो संतो भइया – कबीर
  • बीत गये दिन भजन बिना रे – कबीर
  • चेत करु जोगी, बिलैया मारै मटकी – कबीर
  • अवधूता युगन युगन हम योगी – कबीर
  • रहली मैं कुबुद्ध संग रहली – कबीर
  • कबीर की साखियाँ – कबीर
  • बहुरि नहिं आवना या देस – कबीर
  • समरथाई का अंग – कबीर
  • पाँच ही तत्त के लागल हटिया – कबीर
  • बड़ी रे विपतिया रे हंसा, नहिरा गँवाइल रे – कबीर
  • अंखियां तो झाईं परी – कबीर
  • कबीर के पद – कबीर
  • जीवन-मृतक का अंग – कबीर
  • नैया पड़ी मंझधार गुरु बिन कैसे लागे पार – कबीर
  • धोबिया हो बैराग – कबीर
  • तोर हीरा हिराइल बा किचड़े में – कबीर
  • घर पिछुआरी लोहरवा भैया हो मितवा – कबीर
  • सुगवा पिंजरवा छोरि भागा – कबीर
  • ननदी गे तैं विषम सोहागिनि – कबीर
  • भेष का अंग – कबीर
  • सम्रथाई का अंग / कबीर
  • मधि का अंग – कबीर
  • सतगुर के सँग क्यों न गई री – कबीर
  • उपदेश का अंग – कबीर
  • करम गति टारै नाहिं टरी – कबीर
  • भ्रम-बिधोंसवा का अंग – कबीर
  • पतिव्रता का अंग – कबीर
  • मोको कहां ढूँढे रे बन्दे – कबीर
  • चितावणी का अंग – कबीर
  • कामी का अंग – कबीर
  • मन का अंग – कबीर
  • जर्णा का अंग – कबीर
  • निरंजन धन तुम्हरो दरबार – कबीर
  • माया का अंग – कबीर
  • काहे री नलिनी तू कुमिलानी – कबीर
  • गुरुदेव का अंग – कबीर
  • नीति के दोहे – कबीर
  • बेसास का अंग – कबीर
  • सुमिरण का अंग / कबीर
  • केहि समुझावौ सब जग अन्धा – कबीर
  • मन ना रँगाए, रँगाए जोगी कपड़ा – कबीर
  • भजो रे भैया राम गोविंद हरी – कबीर
  • का लै जैबौ, ससुर घर ऐबौ / कबीर
  • सुपने में सांइ मिले – कबीर
  • मन मस्त हुआ तब क्यों बोलै – कबीर
  • तूने रात गँवायी सोय के दिवस गँवाया खाय के – कबीर
  • मन मस्त हुआ तब क्यों बोलै – कबीर
  • साध-असाध का अंग – कबीर
  • दिवाने मन, भजन बिना दुख पैहौ – कबीर
  • माया महा ठगनी हम जानी – कबीर
  • कौन ठगवा नगरिया लूटल हो – कबीर
  • रस का अंग – कबीर
  • संगति का अंग – कबीर
  • झीनी झीनी बीनी चदरिया – कबीर
  • रहना नहिं देस बिराना है – कबीर
  • साधो ये मुरदों का गांव – कबीर
  • विरह का अंग – कबीर
  • रे दिल गाफिल गफलत मत कर – कबीर
  • सुमिरण का अंग – कबीर
  • मन लाग्यो मेरो यार फ़कीरी में – कबीर
  • राम बिनु तन को ताप न जाई – कबीर
  • तेरा मेरा मनुवां – कबीर
  • भ्रम-बिधोंसवा का अंग / कबीर

Kabir Das Ji Ke Dohe | कबीर दास जी के दोहे

Kabir Das एक महान व्यक्ति थे उनकी महानता ने ही उन्हें इतना महत्वपूर्ण व प्रसिद्ध इंसान बनाया।
Kabir Das ke Dohe भी उनकी तरह ही महान और मीठे हैं।

मानुष जन्म दुलभ है, देह न बारम्बार।
तरवर थे फल झड़ी पड्या,बहुरि न लागे डारि॥

जाता है सो जाण दे, तेरी दसा न जाइ।
खेवटिया की नांव ज्यूं, घने मिलेंगे आइ॥

मान, महातम, प्रेम रस, गरवा तण गुण नेह।
ए सबही अहला गया, जबहीं कह्या कुछ देह॥

कबीर प्रेम न चक्खिया,चक्खि न लिया साव।
सूने घर का पाहुना, ज्यूं आया त्यूं जाव॥

Kabir Das Dohe

इक दिन ऐसा होइगा, सब सूं पड़े बिछोह।
राजा राणा छत्रपति, सावधान किन होय॥

झिरमिर- झिरमिर बरसिया, पाहन ऊपर मेंह।
माटी गलि सैजल भई, पांहन बोही तेह॥

जिहि घट प्रेम न प्रीति रस, पुनि रसना नहीं नाम।
ते नर या संसार में , उपजी भए बेकाम ॥

लंबा मारग दूरि घर, बिकट पंथ बहु मार।
कहौ संतों क्यूं पाइए, दुर्लभ हरि दीदार॥

कबीर बादल प्रेम का, हम पर बरसा आई ।
अंतरि भीगी आतमा, हरी भई बनराई ॥

मैं मैं बड़ी बलाय है, सकै तो निकसी भागि।
कब लग राखौं हे सखी, रूई लपेटी आगि॥

Kabir Das Ke Dohe In Hindi

यह तन काचा कुम्भ है,लिया फिरे था साथ।
ढबका लागा फूटिगा, कछू न आया हाथ॥

कबीर सीप समंद की, रटे पियास पियास ।
समुदहि तिनका करि गिने, स्वाति बूँद की आस ॥

सातों सबद जू बाजते घरि घरि होते राग ।
ते मंदिर खाली परे बैसन लागे काग ॥

कबीर रेख सिन्दूर की काजल दिया न जाई।
नैनूं रमैया रमि रहा दूजा कहाँ समाई ॥

नैना अंतर आव तू, ज्यूं हौं नैन झंपेउ।
ना हौं देखूं और को न तुझ देखन देऊँ॥

Kabir Das Ke Dohe

माया मुई न मन मुआ, मरी मरी गया सरीर।
आसा त्रिसना न मुई, यों कही गए कबीर ।

कबीर सो धन संचे, जो आगे को होय।
सीस चढ़ाए पोटली, ले जात न देख्यो कोय।

हरिया जांणे रूखड़ा, उस पाणी का नेह।
सूका काठ न जानई, कबहूँ बरसा मेंह॥

बड़ा हुआ तो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर।
पंछी को छाया नहीं फल लागे अति दूर ॥

रात गंवाई सोय के, दिवस गंवाया खाय ।
हीरा जन्म अमोल सा, कोड़ी बदले जाय ॥

हमें उम्मीद है आपको Kabir Das Ka Jivan Parichay पसंद आया होगा और आपको Kabir Das Ki Biography के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो गई होगी यदि आपको हमारे द्वारा बताई गई जानकारी अच्छी लगी हो तो आप हमारे इस Article को अपने मित्रों के साथ भी Share कर सकते हैं। दोस्तों अगर आपको इस Topic के समझने में कही भी कोई परेशांनी हो रही हो तो आप Comment करके हमे बता सकते है | इस टॉपिक के Expert हमारे टीम मेंबर आपको जरूर Solution प्रदान करेंगे.

Leave a Comment