MCB box kya hai, MCB Full Form एमसीबी क्या होती है कैसे काम करती है

MCB box kya hai, MCB Full Form एमसीबी क्या होती है कैसे काम करती है Types of MCB

Mcb kya hoti hai in Hindi

ज्यादा तर सभी के घर में बिजिली का कनेक्शन तो होता है। हमारे घरों में या ऑफ़िस में ऐसे ऐसे उपकरण आ चुके है, जो आज के ज़माने के हिसाब से बनाए जाते है, और वो बहुत कीमती भी होते है उसमे लगे उपकरणों को हम लोगों देखा ही होगा। और हमे लगभग सभी उपकरणों का नाम भी पता होगा। जैसे कि स्विच, होल्डर, इंडिकेटर, change over switch, distribution box, juction box, alarm आदि उपकरण। इन्ही सब उपकरणों में से एक उपकरण mcb होता है। जिसका फूल फार्म मिनिएचर सर्किट ब्रेकर (Miniature Circuit Breaker) होता है। पहले mcb की जगह fuse होता था। जो कि हाई वोल्टेज आने पर पिघल/melt हो जाता है तथा उसे दोबारा से लगाना पड़ता है जिस से ही हमें काफी समय लगता है दूसरी ओर mcb को लगाना बहुत ही आसान होता है। इस उपकरण का मुख्य कार्य घर के wiring में आए fault को sense करना और पूरे circuit को fault hone से बचना । यह एक प्रोटेक्टिव device के वर्ग में आता है। तो आज इस पोस्ट में जानेंगे कि mcb क्या होता है, mcb कितने प्रकार के होते हैं, और mcb का प्रयोग किस तरह किया जाता है। इसकी रेटिंग क्या होती है और भी बहुत कुछ इस पोस्ट में बताने जा रहे है .

MCB
  • GK Questions in Hindi | Top 100 General Knowledge In Hindi – Click Here
  • Voltmeter क्या है ? और Digital Voltmeter क्या होता है – Click Here
  • Table Fan, Ceiling Fan, Exhaust fan ka kya kaam hota hai – Click Here

MCB Full-Form– Miniature Circuit Breaker (मिनिएचर सर्किट ब्रेकर)

MCB कब ट्रिप होती है?

MCB एक प्रकार का स्विचिंग device है। सर्किट ब्रेकर कई तरह के आते है, सभी सर्किट ब्रेकर अलग अलग सेफ्टी देते है मतलब सभी अलग अलग फाल्ट पर खुद ट्रिप होकर हमे और हमारे उपकरण को प्रोटेक्शन देते है, क्योंकि इलेक्ट्रीकल सर्किट में कई टाइप के फाल्ट होते है। लेकिन इसकी संरचना सामान्य स्विच की अपेक्षा जटिल होती है। इसमें कुछ मकैनिज्म लगाया जाता है। जिसकी वजह से ये ओवर लोडिंग या fault के स्थिति मै ऑटोमैटिक ट्रिप हो जाती है। अतः इस संरचना में इसमें एक pvc पदार्थ का एक कवर होता है जिसके अंदर सारी मैकेनिज्म फाइट किया जाता है।

Mcb के भाग (parts of mcb)

mcb के अंदर लगे मैकेनिज्म में बहुत सारे पार्ट होते हैं जिसका अपना अलग अलग कार्य होता है। जिसके कारण एमसीबी असामान्य स्थिति में ट्रिप कर जाती है।

  1. Incoming terminal
  2. Moving cantact
  3. Arc suite
  4. Bimetallic strip
  5. Magnatic coil
  6. Manually on/off nob
  7. Outgoing terminal

Mcb में 2 प्रकार की protection होती है।

  1. ओवरलोड फॉल्ट (Overload Fault)
  2. शार्टसर्किट फॉल्ट (Short Circuit Fault)

Overload Fault (ओवरलोड फॉल्ट)

किसी चालू विधुत परिपथ में लगी एमसीबी मैं जॉब करंट की मात्रा बढ़ती है तो एमसीबी के अंदर लगी हुई Bimetallic strip बैंड हो जाती है और लटकाए हुए लीवर को छोड़ देता है 
जिस कारण एमसीबी ट्रिप हो जाती है और आगे सप्लाई देना बंद कर देती है इस प्रकार mcb हमारे सर्किट को जलने से बचाती है तथा इसके साथ जो भी चीज लगी होती है वह सुरक्षित रहती है

Short Circuit Fault (शार्टसर्किट फॉल्ट )

एमसीबी यह दुसरा शार्ट सर्किट से सुरक्षा देता है इसमें जब किसी भी उपकरण में फॉल्ट आने पर MCB ट्रिप हो जाती है। जब किसी भी उपकरण में फॉल्ट आता है या उस उपकरण के अंदर किसी भी प्रकार का शॉर्ट सर्किट होता है तो एमसीबी ट्रिप हो जाती है इसका कारण यह है कि mcb के अंदर एक magnetic coil लगी होती है जैसे ही किसी भी उपकरण में शॉर्ट सर्किट होता है तो mcb के अंदर लगी हुई  magnetic coil बहुत ही ज्यादा मात्रा में मैग्नेट बनाती है
 और इस coil के साथ lever लगा होता है जैसे ही मैग्नेटिक फील्ड ज्यादा होता है वह लीवर को trip कर देती है तथा हमारी एमसीबी ट्रिप होकर आगे सप्लाई देना बंद कर देती है और हमारे उपकरण जलने से बच जाते हैं यह कार्य कुछ मिली सेकंड में ही हो जाता है इसलिए एमसीबी शॉर्ट सर्किट के लिए बहुत ही अच्छी उपकरण है

MCB लगाने के फायदे या advantage

MCB एक स्वचालित रूप से बंद सर्किट है जो सर्किट में ओवरलोड और शॉर्ट सर्किट के कारण automatic रूप से बन्द हो जाता है।  और यह फ्यूज की तुलना में बहुत तेजी से काम करता है।

हम mcb के trip होने के बाद फिर से MCB चला सकते हैं, लेकिन अगर फ्यूज जलता है, तो इसे एक नए फ्यूज से बदलना होगा।

MCB box

Mcb कितने प्रकार का होता हैं (mcb kitane prakar ka hota hai)

Type – B MCB

अगर किसी एमसीबी का फुल लोड करंट 10 एंपियर है और वह Type-B एमसीबी है तो अगर उसके अंदर से 30 से 50 एंपियर करंट Flow हो जाता है तो वह एमसीबी ट्रिप हो जाएगी .

 Type C MCB

C टाइप MCB की कैपेसिटी अपनी रेटिंग की 5 से 10 गुना तक लोड सहन कर सकता है।उदाहरण के तौर पर इसमे भी हम 10 एम्पियर की MCB ही लेते है तो इसकी कैपेसिटी(क्षमता) 50 से 100 एम्पियर होती है ।

Type – D MCB

और इसी प्रकार अगर TYPE- D का एमसीबी है और उस का फुल लोड करंट 10 एंपियर है तो वह 100 से 200 एंपियर करंट Flow हो होने पर Trip हो जाएगा .

Type K MCB 

इस प्रकार के MCB में 100 से 150 एम्पियर करंट वहन करने की क्षमता होती है। अगर 10 एम्पियर रेटिंग वाली MCB को लेते है तो यह 10 से 15 गुना तक  लोड वहन कर सकती है।

Type – Z MCB

यह एक स्टैण्डर्ड टाइप का MCB होता हैऔर इसी प्रकार अगर TYPE- C का एमसीबी है और उस का फुल लोड करंट 10 एंपियर है तो वह 20 से 30 एंपियर करंट Flow हो होने पर Trip हो जाएगा

MCB

Home Page – Encip.org

Leave a Comment