Qutub Minar ki lambai | Qutub Minar Information

Qutub Minar ki lambai | Qutub Minar Information In Hindi

Qutub Minar

Qutub Minar ki lambai

अगर आप दिल्ली घूमने जा रहे हैं तो क़ुतुब मीनार देखना आपको कतई मिस नहीं करना चाहिए कुतुब मीनार भारत की राजधानी दिल्ली शहर के महरौली में स्थित है जो कि भारत की सबसे भव्य और मशहूर ऐतिहासिक इमारतों और मुख्य पर्यटन स्थलों में से एक है। यहाँ पर कई प्राचीन इमारते और धरोहर स्थित है। इन पुरानी और खास इमारतों में से एक इमारत दिल्ली में स्थित है जिसका नाम है क़ुतुब मीनार, जो भारत और विश्व की सबसे ऊँची मीनार है।

Qutub Minar ki Lambai Kitni Hai ? (Qutub Minar Height)

क़ुतुब मीनार को लाल बलुआ पत्थर और मार्बल से बनाया गया है। क़ुतुब मीनार की उंचाई 72.5 मीटर है जमीन पर इस इमारत का व्यास 14.32 मीटर है, जो शिखर तक पहुंचने पर 2.75 मीटर रह जाता है। मीनार के अंदर कुल 379 सीढ़ियाँ है, जो कि गोलाई में बनी हुई है। जो मीनार के शिखर तक पहुंचती हैं।

क़ुतुब मीनार का निर्माण किसने करवाया – (Who Built Qutub Minar)

Qutub Minar ki lambai

जिसका निर्माण 12वीं और 13वीं शताब्दी के बीच में कई अलग-अलग शासकों द्धारा करवाया गया हैं। जिसे कुतुबुद्दीन ऐबक ने 1193 में बनवाया था । कुतुब मीनार का निर्माण कुतुबुद्दीन ऐबक द्वारा शुरू किया गया था लेकिन उसने केवल तलघर  ( मीनार की नीव ) का निर्माण किया था। कुतुबुद्दीन ऐबक साहब ने इस मीनार को बनवाने की शुरुवात की इन्होने इसकी नीव रखी और पहली मंजिल बनवाई फिर ऐबक साहब के परपोते इल्तुतमिश ने इसकी तीन और मंजिले बनवाई इसके बाद इस मीनार की पांचवी मंजिल फ़िरोज़ शाह तुगलक साहब ने बनवाई थी |

कुतुब कॉम्प्लेक्स में हैं कई ऐतिहासिक इमारतें – (There are many historical buildings in the Qutub complex)

Qutub Minar ki lambai

क़ुतुब मीनार कई बड़ी ऐतिहासिक इमारतों से घिरा हुआ है और ये सभी कुतुब कंपलेक्स के अंतर्गत आती हैं। इस कांप्लेक्स में दिल्ली का लौह स्तंभ, कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद, अलाई दरवाजा, इल्तुतमिश की कब्र, अलाई मीनार, अलाउद्दीन का मदरसा और कब्र, इमाम जमीन की कब्र और सेंडरसन का सन डायल जैसी इमारतें हैं, जिन्हें देखना सैलानियों को विशेष रूप से आकर्षित करता है।

क़ुतुब मीनार की कुछ दिलचस्प बातें – (Some interesting facts about Qutub Minar in Hindi)

Qutub Minar ki lambai

क़ुतुब मीनार के परिसर में लगभग 1600 साल पुराना लौह स्तंभ स्थित है जिसमे आज तक जरा सा भी जंग नहीं लगा है। क्योकि अपने भी अक्सर देखा होगा की लोहे में कुछ टाइम बाद जंग लग्न शुरू हो जाता है लेकिन इस खम्बे में जरा सा भी जंग नहीं लगा। कुतुब मीनार का ऊपरी हिस्सा बिजली गिरने की वजह से नष्ट हो गया था, जिसे फिरोजशाह तुगलक ने दोबारा बनवाया। बाद के समय के फ्लोर पहले के फ्लोर्स से काफी अलग हैं, क्योंकि यह सफेद संगमरमर के बने हैं। सन 1974 से पहले कुतुब मीनार आम लोगों के लिए खुला हुआ था, लेकिन 4 दिसंबर 1981 में यहां आए लोगों के साथ एक भयानक हादसा हुआ, इसके बाद से इस इमारत के भीतरी हिस्से में प्रवेश पूरी तरह से वर्जित कर दिया गया। बता दें कि क़ुतुब मीनार भले ही भारत की सबसे बड़ी इमारत है लेकिन यह बिलकुल सीधी नहीं है यह थोड़ी सी झुकी हुई है। जिसका सबसे बड़ा कारण यह है कि इस इमारत का मरम्मत का काम कई बार हुआ है।

क़ुतुब मीनार जाने का सबसे अच्छा समय – (Best time to visit Qutub Minar in Hindi)

क़ुतुब मीनार जाने के लिए आप साल में कभी भी जा सकते है यह एक ऐसी जगह है। जहाँ पर किसी भी मौसम में जाया जा सकता है। लेकिन इस बात को आप भी जानते है की गर्मियों के मौसम में दिल्ली का टेम्प्रेचर बहुत गर्म होता है जिसके कारन गर्मियों के समय यहां पर घूमने में काफी दिक्कत होती है यहाँ सुबह 6 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक घूमने जा सकते है लेकिन अगर भीड़-भाड़ से बचना है तो आप यहाँ सुबह ही आइये |

Qutub Minar Kaise Pahunche ? – (How to reach Qutub Minar)

आप कई से भी आ रहे हो तो सबसे पहेले तो भारत की राजधानी नई दिल्ली आना होगा और दिल्ली आने के लिए आपके पास सारे विकल्प खुले है चाहे ट्रेन से या रोड से या आये प्लेन से हर तरीके से आप बड़ी ही आसानी से यहाँ आ सकते है अब बात करते है कि Qutub Minar Kaise Pahunche , देखिये आप दिल्ली में कही भी हो अपने नजदीकी मेट्रो स्टेशन जाए वहां से कुतुबमीनार मेट्रो स्टेशन का टिकट ले .
इसके अलावा आप ऑटो या टैक्सी बुक करके भी बड़ी आसानी से यहाँ पहुच सकते है वैसे यदि आप बस से जाना चाहे तो महरौली जाने वाली सभी बसे यहाँ से होकर गुजरती है आपको बता दे की यह प्रख्यात मीनार दिल्ली के महरौली नामक जगह पर है |

Home Page – Encip.org

Leave a Comment